parsamalik Teacher Molestation news

chauthastambhup.com । परसामलिक ।

महराजगंज जनपद के परसामलिक थाने की पुलिस हमेशा अपनी कार्रवाई की वजह से सुर्खियों में बनी रहती है। चाहे वह दो पुजारियों की हत्या के मामले में निर्दोष ग्रामीणों पर थर्ड डिग्री टार्चर का हो या फिर अवैध बालू खनन माफियाओं से संबंध। अक्सर ऐसे आरोप परसामलिक थाना क्षेत्र के लोग परसामलिक पुलिस पर लगाते रहे हैं। ऐसा ही एक मामला थाना क्षेत्र के ग्राम महदेइया से भी सामने आया है। जहाँ एक नवविवाहिता ने पूर्व थानाध्यक्ष परसामलिक सुनील कुमार वर्मा पर छेड़खानी के मामले को चोरी का मामला बताकर गलत रिपोर्ट देने का आरोप लगाया है।

वीडियो भी देखें:-

महिला ने एसपी को दिए ज्ञापन में बताया कि, वह परसामलिक थाना क्षेत्र के अंतर्गत आने वाले ग्राम महदेइया टोला बोदनी की निवासी है। दिनाँक 26/10/2021 की रात करीब 09:30 बजे गांव का ही सरकारी टीचर शेषमन उर्फ अरुण कुमार घर में घुस मेरा हाथ पकड़कर छेड़छाड़ करने लगा। शोर मचाने पर मेरे पति जग गए और तत्काल डायल 112 पर घटना की सूचना पुलिस को दी। सूचना पाकर मौके पर पहुंची पुलिस आरोपी को पकड़कर थाने ले गई, लेकिन अगले दिन 27 अक्टूबर को पुलिस ने पैसे का लेन-देन करके आरोपी को छोड़ दिया।

यह भी पढ़ें:-

● नवविवाहिता के घर में घुसकर सरकारी टीचर ने की छेड़खानी, विरोध करने पर थाना खरीदने की देता है धमकी

● नेपाल में भारत व हिन्दू विरोधी विचारधारा बढ़ी, इसे रोकने के लिए नेपाल में राजसत्ता की वापसी आवश्यक

उक्त मामले में 27 अक्टूबर को ही मैंने थानाध्यक्ष परसामलिक व पुलिस क्षेत्राधिकारी नौतनवां को प्रार्थना पत्र दिया था, लेकिन आरोपी के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की गई। नवविवाहिता ने बताया कि, दिनाँक 08/11/2021 को न्याय की मांग करते हुए मैंने नौतनवां में आयोजित संपूर्ण समाधान दिवस में उपस्थित एसपी व डीएम को एक प्रार्थना पत्र दिया। जिसकी जांच उस समय परसामलिक थानाध्यक्ष रहे सुनील कुमार वर्मा को सौंपी गई थी, लेकिन उन्होंने धन-बल के दबाव में आकर उक्त छेड़छाड़ के मामले को चोरी व पुरानी रंजिश का मामला बताकर गलत रिपोर्ट लगा दी। जिससे आरोपी कानूनी कार्यवाही से बच गया।

parsamalik Teacher Molestation news

साथ ही थानाध्यक्ष ने जांच रिपोर्ट में बताया है कि चोरी के जुर्म में न फंसने और थाने से छूट जाने पर आवेदिका द्वारा सरकारी शिक्षक को झूठे केस में फसाने के लिए छेड़खानी का प्रार्थना पत्र दिया गया। जबकि रिपोर्ट को लेकर नवविवाहिता ने कहा कि जांच के दौरान उक्त मामले में थानाध्यक्ष द्वारा गांव के किसी भी व्यक्ति से गवाही नहीं ली गई है। वहीं महिला ने बेसिक शिक्षा अधिकारी महराजगंज को भी ज्ञापन देकर सरकारी टीचर के खिलाफ विभागीय कार्रवाई की मांग की है।

parsamalik Teacher Molestation news

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here